Tue. Sep 21st, 2021
Omega 3 fatty acid

क्यों जरूरी है ओमेगा-3 आपके शरीर के लिए (Omega 3 Fatty Acid​)

ओमेगा 3 फैटी एसिड याने ओमेगा 3 (Omega 3), शरीर के लिए एक जरूरी फैटी एसिड में से एक होता है शरीर में यह प्राकृतिक रूप से नहीं बन पाता है इसलिए इसको आहार में शामिल करने की जरूरत होती है.

ओमेगा 3 एक आवश्यक फैटी एसिड (Fatty Acid) है जो मस्तिष्क की गतिविधि को विनियमित करने के लिए महत्वपूर्ण है और आपकी दृष्टि को भी लाभ पहुंचाता है. ओमेगा 3 आपकी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए भी मददगार साबित होता है.

ओमेगा 3 फैटी एसिड के सेवन से हम हड्डियों को स्वस्थ रख सकते है. यह ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) यानी कमजोर हड्डियों को ठीक करने में मदद कर सकता है. ओमेगा 3 फैटी एसिड आपकी हड्डियों के घनत्व यानी डेंसिटी को बढ़ाता है और हड्डियों के कम होते घनत्व को रोकने में मदद करता है. सही मात्रा में ओमेगा 3 का सेवन  हमारे हड्डियों के लिए लाभकारी साबित हो सकता है.

नासा द्वारा प्रायोजित अध्ययनों में पाया गया है कि मछली के तेल में पाए जाने वाले ओमेगा -3 फैटी एसिड हड्डियों के टूटने को कम करने में भूमिका निभा सकते हैं जो स्पेसफ्लाइट के दौरान और ऑस्टियोपोरोसिस में होता है। दशकों से चल रहे इस अनुसन्धान में अंतरिक्ष यात्रियों में अस्थि घनत्व के नुकसान को रोकने के तरीकों की तलाश की गयी है। इस अनुसन्धान के नतीजे अंतरिक्ष यात्रियों और पृथ्वी पर रहने वाले मानव दोनों के लिए महत्वपूर्ण हो सकते हैं।

हमारे भोजन में हमे तीन तरह से मिल सकता है ओमेगा-3

Alpha-Linolenic Acid (ALA)​

अल्फा-लिनोलेनिक एसिड (एएलए) – प्लांट्स या पेड़-पौधों से मिलने वाला।

Eicosapentaenoic Acid (EPA)​

आईकोसेपेंटानॉइक एसिड (ईपीए) – सी फूड या समुद्री जीव-जंतुओं से मिलने वाला

Docosahexaenoic Acid (DHA)​

डोकोसेहेक्सानॉइक एसिड (डीएचए) – यह सी फूड या समुद्री जीव-जंतुओं से मिलने वाला

फूड एंड एग्रीकल्चर ऑर्गेनाइजेशन ऑफ द यूनाइटेड नेशंस  (FAO) और यूरोपीय खाद्य सुरक्षा प्राधिकरण (EFSA) की सिफारिशों के अनुसार आपको प्रतिदिन ओमेगा 3 फैटी एसिड के 250 मिलीग्राम का सेवन करने की आवश्यकता है, वहीं बच्चों के लिए ये प्रतिदिन 150 मिलीग्राम है.

किन खाद्यपदार्थोंसे हमे मिलेगा ओमेगा ३ (Omega 3 )

मांसाहारी और शाकाहारी दोनों स्रोतों से हमें ओमेगा-3 फैटी एसिड मिलता है. यह अखरोट जैसे सूखे मेवों, चिया सीड (chia seeds) , अलसी (Flax Seed), सूरजमुखी के बीज (Sunflower Seeds), कनोडिया या सोयाबीन, सरसों के बीज, टोफू, गोभी, हरी बीन्स, ब्रोकली, शलजम, हरी पत्तेदार सब्जियों और, रसभरी जैसे फलों में काफी मात्रा में पाया जाता है। टय़ूना, सालमोन , हिलसा, सार्डिन जैसी मछलियां, शैवाल, झींगा जैसे सी-फूड ओमेगा-3 के ईपीए और डीएचए प्रकार के अच्छे स्त्रोत हैं.

हम ओमेगा ३ की मल्टीविटामिन सप्लीमेंट ले कर भी इसकी आपूर्ति कर सकते है. 

कैसे ले ओमेगा ३ सप्लीमेंट

विशेषज्ञों के अनुसार ओमेगा ३ सप्लीमेंट खाना खाने के साथ लेना चाहिए. वैसे तो  ओमेगा ३ सप्लीमेंट हर उम्र का व्यक्ति ले सकता है लेकिन छोटे बच्चों को डॉक्टर की सलाह के बिना सप्लीमेंट ना दे क्योंकि उनकी ओमेगा ३ की दैनिक आवश्यक मात्रा बहुत कम होती है.

Healthcare Disclaimer :- The information, including but not limited to, text, graphics, images and other material contained on this website are for informational purposes only. The purpose of this website is to promote broad consumer understanding and knowledge of various health topics. It is not intended to be a substitute for professional medical advice, diagnosis or treatment. Always seek the advice of your physician or other qualified health care provider with any questions you may have regarding a medical condition or treatment and before undertaking a new health care regimen, and never disregard professional medical advice or delay in seeking it because of something you have read on this website.

By Editor

Homeopathic consultant with 20+ yr of experience.